Monthly Archives: January 2015

अस्तित्व की लढाई

परिणामों की चिंता वो करते है, जो कभी लढ़े ही नहीं। हम तो रणभूमि में मौत को मात देकर आये है। संघर्ष क्या होता है यह वो क्या जाने, जिनका भुत सुन्दर और समतल हो। हम तो पथरीले रास्तों पर … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment