Author Archives: Dr. Sanjay Kumar Pandagale

About Dr. Sanjay Kumar Pandagale

I am an Assistant Professor in Education in NCERT presently posted at Regional Institute of Education Bhopal which is a constituent unit of National Council of Educational Research and Training, New Delhi. Since last 14 years, I am working here in different capacities like, State Coordinator of Maharashtra and Goa, In-charge of Educational Technology Cell, In-charge of Information and Communication Center, Coordinator of Working With Community programme and Coordinator of EDUSAT programme. State Coordinator of Maharashtra for Research Study on SSA, Member of monitoring team for Chhattis Garh on SSA, Team member of National Achivement Surey (NAS). I visited Kunming, China in 2007 to attend workshop on ICT sponsored by UNESCO Bangkok. In 2008, I attended II workshop on ICT at Brunei Darussalem. Recently, in January 2013, I visited United Kingdom. During my seven days study tour, I visited Nottingham, London and Bristol.

सही श्रद्धान्जलि

बुद्धवासी द्रौपदीबाई पंडागले (मेरी दादी) का देहांत ६ नवम्बर २०१५ को हुआ। उस समय उनकी आयु ९५ के करीब थी। उनके अंतिम समय में बड़े पिताजी का परिवार, मेरा परिवार तथा बड़ी बुवां ने उनकी सेवा की। अन्य सदस्य गांव … Continue reading

Posted in Uncategorized | 1 Comment

Pandagale family dance on Zingaat song…

Posted in Uncategorized | Leave a comment

इतना नादाँ भी नहीं

इतना नादाँ भी नहीं की समझ ना सकु पर अपनों से ठोकर खाना गवारा नहीं मुझे। कभी हमारी छोटी सी ख़ुशी पर कितना इठलाते थे वो आज असीम दुःख की सुध भी नहीं उन्हें। विश्वास पे तो दुनिया कायम है … Continue reading

Posted in Uncategorized | 2 Comments

अंधविश्वासी महिलाओं की गोद भरता बाबा

विगत दिनो लखनऊ के करीब बाराबंकी में एक संत बाबा परमांनंद उर्फ राम शंकर तिवारी उम्र लगभग 65 वर्ष सुर्खियों मे है। उन पर आरोप है की उसने महिलाओं की गोद भरने की आड़ में बलात्कार किया और उनकी सेक्स … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

शादी: कुछ सोचनीय सवाल

हमारे देश में वैसे तो कई त्यौहार तथा प्रसंग बड़े धूम धाम से मनाए जाते है। पर शादिया शायद कुछ जादा ही धुमधाम से मनाई जाती है। केवल सामान्य धूमधाम ही नहीं, शादियों में रीती रिवाजो की भी धूमधाम होती … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

मृतदेह का आत्मकथन

निम्नलिखित आत्मकथन मराठी में था। मुझे अच्छा लगा तो इसका हिंदी में अनुवाद कर दिया। काफी समय लगा इसे अनुवादित करने मे। अत: एक बार अवश्य पढ़िए। जिसने भी लिखा है क्या खूब लिखा है। जब तक था देह में … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

मेरे विचार

अपने दोस्त और दुश्मन दोनों को कभी भी ना छोडो। दोनों में से किसी को भी छोड़ोगे तो बहुत कुछ खोना पड सकता है। जरुरी नहीं की जो आपके साथ हमेशा रहता है वो आपका बहुत अच्छा दोस्त हो और … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment